बरसता तू नहीं…..

हूँ शायद मैं तुझसे लापता,
या तू ही है दूर मुझसे,
बरसता तू भी यहीं है,
भीगता मैं नहीं हूँ फ़िर भी…….