पैमाना

कुछ इस क़दर गये थे तुम,

आज भी उन सिलवटों को काग़ज़ पर उतारने कि कोशिश कर रहा हूँ,

ना जाने कैसा ख़ुमार था कशिश में तुम्हारी,

मैं आज भी अपना पैमाना ढूंढ रहा हूँ…….

Advertisements

She fell from the stars….

She fell from the stars,

Right into his life,

Who says miracles dont happen,

An angel loved a man,

For what he was,

And he loved her,

The imperfectly perfect she,

Do forms matter,

Do souls seek each other by physical,

Or is the energy that attracts,

He had always asked,

That day he got answers,

She fell from the stars,

And stayed forever…..

Pieces of mine….. टुकड़े मेरे…….

कई दर्द छुपा रखे हैं मैंने,
यह जो सिलवटें हैं इस जिस्म पर मेरे,
ज़रा आना कभी फुर्सत से मेरी चौखट पर तुम भी किसी रोज़,
कुछ दफनाने हैं जो बच गए थे वो टुकड़े मेरे……..

No one sees the pain within,
The ones that stay in spaces of me,
Come to me, maybe once in a while,
Some pieces of mine are still left to be buried………

पारियों की रानी…. 

कभी हस के भी मिला करो,
इतना भी  गुरूर ठीक नहीं,
सताया इतना करो,
जितना बर्दाश्त हो सके,
पत्थर की मूरत अक्सर टूट जाती है,
नेक हो जो इरादे ही सही,
मजबूर ना कीजिए हमें ए पारियों की रानी,
वरना फरिश्ते हम भी नहीं….