खुमार……

Advertisements

I want to live…..

I don’t want to die.

Rather live with you.

Everyday, each moment,

When I get to live two lives,

The one that’s meant for you,

And the one for us,

I want to live with you,

As long as the day shines,

And the days after them….

Pieces of mine….. टुकड़े मेरे…….

कई दर्द छुपा रखे हैं मैंने,
यह जो सिलवटें हैं इस जिस्म पर मेरे,
ज़रा आना कभी फुर्सत से मेरी चौखट पर तुम भी किसी रोज़,
कुछ दफनाने हैं जो बच गए थे वो टुकड़े मेरे……..

No one sees the pain within,
The ones that stay in spaces of me,
Come to me, maybe once in a while,
Some pieces of mine are still left to be buried………

पारियों की रानी…. 

कभी हस के भी मिला करो,
इतना भी  गुरूर ठीक नहीं,
सताया इतना करो,
जितना बर्दाश्त हो सके,
पत्थर की मूरत अक्सर टूट जाती है,
नेक हो जो इरादे ही सही,
मजबूर ना कीजिए हमें ए पारियों की रानी,
वरना फरिश्ते हम भी नहीं….

आशियाना…. 

कभी आईना देखा,
तो कभी झाँका गेहराइयों मैं,
आसमानों की मुलायम पर्दों मैं देखा,
तो कभी समुन्दर के अनंत मैं,
घर ढूंढ रहा था मैं,
ना जाने कहाँ,
ना जाने कब,
अक्स जो तेरा गिरा था मुझ पर,
वो सर्द किसी रात मैं,
ना जाने कैसे,
ना जाने कब,
इस काफिर को अपना आशियाना मिल गया……

Death is a new beginning….. 

The heat had started melting off the skin, 
As the flames fed on her bones, 
The memories, photographs and the days so good, 
Mortal is body, maybe the mind, 
Play games in times likes these, 
You become strong, 
Hold off some tears, 
Maybe they are in a better place, 
As dust covers up what’s left, 
And you try to find someone that existed till now, 
Maybe the body is mortal, 
Or the universe unsettled, 
How else would the Sun, 
Die to see, 
Earth Be born again, 
Everyday……