बरसता तू नहीं…..

हूँ शायद मैं तुझसे लापता,
या तू ही है दूर मुझसे,
बरसता तू भी यहीं है,
भीगता मैं नहीं हूँ फ़िर भी…….

नशा

कुछ अलग नशा सा है आँखों में उसकी,

मैं दूर जाता तो हूँ पर भी नही,

कोशिश कई बार की थी,

शब्दों में उतारूँ सीरत उसकी,

रात हुई,

हुई भोर भी अभी,

पर शायद क़ायम है बेपनाह उसका,

नशा इस मुलाज़िम पर आज अभी…..

रूह

धूँदता रहा था मैं कई चौखटों तुझे,

ना मिला भी तू,

शायद मिला भी मुझे,

लिखता तो मैं फिर भी था,

अल्फ़ाज़ों में रूह पर उतरी है आज तुझसे…..।।।।।

Do you have a minute?

I have eyes to see,

Feet to run,

Hands to carve my own sun,

And I see not the seen,

The do, not done,

Life isn’t fair to us all,

The Sun is harsh on some of our own,

What will happen if you a spare minute,

Stop, look around and be empathetic,

An act of kindness is a ripple they say,

Dominos fall and create a chain,

And traverses space, time and of all known gears,

Maybe your hand was their last despair,

A day known,

A memory sown,

And hope begins to grow,

A failed marriage, a jobless spirit,

Or maybe the one who had lost all his tidings,

Stretch a hand or that gorgeous smile,

Lend an ear or send a word,

Sometimes thats what all it takes,

Life isn’t easy for us all,

Hope we all could make it someday,

But Whatever happens always remember,

One for all,

All for one…..

नूर….

बारिश में भी आज कुछ नमी सी है,

ऐ दिल तुझमें कुछ आज कमी सी है,

रुक सी गयी है क्यूँ ये हवाएँ,

बेजान सी जाने क्यूँ लग रहीं हर दिशाएँ,

ना जाने क्यूँ आज छुप गया है सूरज भी बादलों में,

क्यूँ शर्मा के इसने मोड़ ली निगाहें,

सागर भी ले रहा है आज अंगड़ाइयां,

लहरे इसकी कर रही गुस्ताखियाँ,

फिर देखता हूँ जब वो नूर तेरा,

शब्द ढूँढता है यह ज़मीर मेरा,

बेज़ुबान हो जाती यह हस्ती मेरी,

और खिल जाता यह जहाँ तेरा,

हर ज़र्रा तब पुकारता है मज़हब तेरा,

अल्लाह हू,

हू अल्लाह…..